Friday, December 18, 2009

हयात..


...

"जब हुए तुम..
मेरे हयात..
रंगीन है..
हर मुलाकात..!"

...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

विनोद कुमार पांडेय said...

बहुत खूब..बढ़िया लगा यह बात धन्यवाद जी

अनिल कान्त : said...

achchhe shabd hain