Friday, January 22, 2010

'घुटन साँसों की दबाऊँ कैसे..'


...


"ज़ार-ज़ार ख्वाबों को सजाऊँ कैसे..
अश्कों की दहलीज़ को छुपाऊँ कैसे..१


वहशत के शोर में उलझी फिजायें..
घुटन मेरी साँसों की दबाऊँ कैसे..२


अजब है..रिवायत-ए-महफिल..
शिकवा खुदा को दिखाऊं कैसे..३


बारहां..झुलसता रहा लम्हों में..
साए जुल्फ-ए-रंगत बहाऊँ कैसे..४


इक खलिश-सी ज़िंदा है अब-तलक..
रंगत-ए-नासूर फिर..जमाऊँ कैसे..५


नजाकत-ए-दौर..ख़ाक हुआ इस मौसम..
इबादत-ए-शिकन आज सुखाऊँ कैसे..६..!"


...

4 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Kusum Thakur said...

वाह क्या खूब लिखी हो !! शुभकामनाएँ , ऐसे ही लिखती रहो !!
गंतान्त्रदिवास की शुभकामनाएँ !

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद कुसुम जी..!!

Dr(Vd.)Bhavin Turkhia said...

excellent work.... written staright from the heart

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद भाविन जी..!!