Monday, February 15, 2010

'अदभुत चमकीला संसार..'


...

"चमक-दमक कर निकली सवारी..
डाले जितना गुड़..मीठा उतना पावे..
खाना नसीब नहीं..महफ़िल में लोगों को..
पर..सोना-चाँदी से भरपूर..दुल्हन घर आवे..!"

...

4 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

देवेश प्रताप said...

बहुत खूब ....आज के दिखवाए पर अच्छा व्यंग्य ..

Arshad Ali said...

han bilkul sahi kaha
kabhi kabhi aisa mai bhi mahsus karta hun.

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद देवेश प्रताप जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद अरशद अली जी..!!