Tuesday, April 20, 2010

'बरक़त-ए-दियार..'


...


"तहज़ीब-ए-दस्तूर..
दहली है..
सियासत के..
तूफानी दलदल में..

आज फिर..
भारी है..

तासीर-ए-हवस-ए-इंसान..
बरक़त-ए-दियार..!"

...

6 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

संजय भास्कर said...

बहुत बढ़िया,
बड़ी खूबसूरती से कही अपनी बात आपने.....

Shekhar Kumawat said...

bahut khub

jabardast he

shekhar kumawat

http://kavyawani.blogspot.com/

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद संजय भास्कर जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद शेखर कुमावत जी..!!

देवेश प्रताप said...

lajwaab rachna

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद देवेश प्रताप जी..!!