Sunday, April 25, 2010

'कश्ती..'


...

"खंज़र घोंप दो..
सीने में आज..
जलता हूँ..
ऐसे भी..
यादों के समंदर..
जज़्बातों की कश्ती में..
मेरे महबूब..!!"

...

7 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

anand said...

kuch samjh me nahi aya..
kashti kahaan jane wali hai..

संजय भास्कर said...

सुंदर शब्दों के साथ.... बहुत सुंदर अभिव्यक्ति....

दिलीप said...

waah...

कविता रावत said...

..Wah bahut khoob!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद संजय भास्कर जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद दिलीप जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद कविता रावत जी.!!