Saturday, May 15, 2010

'बेवफ़ा..'





...


"कुछ पल जुदाई के..
उधार लाया था..
माज़ी के कूचे से..
सोचा था..
इक आशियाँ बना..
रूह में छुपा रखूँगा..
आज फिर..
उलझा हूँ..
ख्यालातों से..
क्यूँ वफ़ा निभाई..

काश..
बेवफ़ा होता..
मैं भी..!!"


...

9 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

संजय भास्कर said...

BEAUTIFUL...

दिलीप said...

waah ek aur naayaab heera...

अपूर्व said...

सुंदर क्षणिका..रूह के पोशीदा दर्द के परवाज सी..

देवेश प्रताप said...

जवाब नहीं ....आपका

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद संजय भास्कर जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद दिलीप जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद अपूर्व जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद देवेश प्रताप जी..!!

Dhariwal said...

Kya baat hai...

shabdo aur bhavnao ka accha mishran hai...

bahot khoob