Friday, July 16, 2010

'रिवायतों का घूँट..'


...

"मासूम चाहत..
कुरबां हुई जाती है..
उतरता है..
हलक से..
जब-जब..
रिवायतों का घूँट..!!"

...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

संजय भास्कर said...

बहुत खूब, लाजबाब !

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद संजय भास्कर जी..!!