Monday, October 18, 2010

'ईमानदारी..'


...

"मुस्कुरा सके ज़माना..
अक्स छुपाये रखा..
ईमानदारी को बहाना..
मेरा साक़ी समझा..!!"

...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

संजय भास्कर said...

गजब कि पंक्तियाँ हैं ...

Priyankaabhilaashi said...

धनयवाद संजय भास्कर जी..!!