Sunday, November 7, 2010

'जीवन-यापन के साधन..'




...


"असीमित आकाश..
मुट्ठी भर धरती..
अनगिनत स्वप्न..
स्वच्छ आत्मा..

करुण संस्कार..
विशाल ह्रदय..
सेवामयी भाव..
अमृत वाणी..

पर्याप्त है..
जीवन-यापन के साधन..!!"


...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद संगीता आंटी..!!