Sunday, November 7, 2010

'करुणा भर देना..'



...


"अंतर्मन की पुकार..
सुन लेना..
हे प्रभु..
देखूँ कोई दीन-दुखी..
करुणा भर देना..!!"


...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

संजय भास्कर said...

बहुत सुन्दर और मार्मिक

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद संजय भास्कर जी..!!