Wednesday, December 1, 2010

'स्वप्न..'



...


"कभी हौले से..कभी तेज़ क़दमों से..
आहट होती है..तेरे मुस्कुराने से..

स्वप्न मिश्री-से सफ़ेद हो जाते..काश...!!"


...

4 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / ASHISH said...

प्रियंका जी,
नमस्ते!
खूबसूरत!
आशीष
---
नौकरी इज़ नौकरी!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद आशीष जी..!!

Omi said...

triveni!!!!!!!!!!!!!!!!!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद ओमी दादा.!!