Friday, March 25, 2011

'योगदान की पाठशाला..'




...


"सजते-संवरते चंद्रमा की रंगमाला..
कोमल पुष्प की सुगन्धित वर्णमाला..
अद्भुत है संयोग..विशाल है मनोयोग..
होती है सरल..योगदान की पाठशाला..!!!"

...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

यशवन्त माथुर said...

"होती है सरल योगदान की पाठशाला "

बहुत ही अच्छा लिखा है आपने.

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद यशवंत माथुर जी..!!