Wednesday, May 4, 2011

' ख्वाइश..'




...


"परिंदे करते गुज़ारिश हैं..
छुपा लो..
रूह की ख्वाइश है..!!!"


...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बहुत बढ़िया.

सादर

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद यशवंत माथुर जी..!!