Saturday, May 28, 2011

'रूमानी ज़ागीर..'



...


"बगावत तूफां से टकरा..
लूटी तासीर..
जलता रहे जो ता-उम्र..
फ़क़त..
कद्र ज़ुबान-ए-वाईज़..
अता होती है..
रूमानी ज़ागीर..!!!"

...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बेहतरीन.

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद यशवंत माथुर जी..!!