Tuesday, June 14, 2011

'अवसर..'



...


"मखौल उड़ाता है..
जग सारा..
मदमस्त रहता हूँ..
शैय्या पर अपनी..
घाँव मरहम से भरे हैं कभी..??
विचार धुंधलाता हूँ..
असंमज में व्यतीत होती..
जीवन की अंतिम पंखुड़ियां..
जाने दो..
विषम परिस्तिथियाँ..
परस्पर प्रेम और दया के..
मिलते रहें अवसर..!!"


...

7 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Er. सत्यम शिवम said...

क्या बात कही है..गहन विचार..लाजवाब।

sushma 'आहुति' said...

bhut hi khubsurat shabdo ka samayojan....

संजय भास्कर said...

हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति के लिये बधाई के साथ शुभकामनायें ।

संजय भास्कर said...

कुछ व्यक्तिगत कारणों से पिछले 15 दिनों से ब्लॉग से दूर था
इसी कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका !

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद सत्यम शिवम जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद सुषमा 'आहुति' जी..!!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद संजय भास्कर जी..!!

कोई बात नहीं..आप आये बहुत अच्छा लगा..!! ऐसे ही आते रहा करें..!!