Sunday, June 19, 2011

'ख्वाब के अखबार..'



...


"अलविदा कहे जाते हैं इस शब..
मुलाकात का ऐतबार नहीं..
गर..बुला सको तो..
देख लेना..
मिलेंगे ख्वाब के अखबार में..!!"


...

4 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

sushma 'आहुति' said...

very nice lines..........

M VERMA said...

'ख्वाब का अखबार' सुन्दर बिम्ब

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद सुषमा 'आहुति' जी..!!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद वर्मा जी..!!