Friday, July 29, 2011

'रसीली मधुशाला..'




...


"डूबी है रंग में आज रुबाई..
चलो..
फिर सैर पर चलें..

बिछी थीं..
मुस्कराहट की सुगंध..
तन की अभिलाषा..
जहाँ..

उगता था दिनकर..
साथ जीवन परिभाषा..

मद्धम उजाला..
इन्द्रधनुषी जिज्ञासा..

प्रेम आदर विनम्रता..
बहती थी हर क्षण..
संस्कारों की भाषा..

खुशहाली की चादर..
करती तृप्त पिपासा..

चलो..
खोज लायें..
दूरियां पाटने वाली..
रसीली मधुशाला..!!"


...

6 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

सागर said...

sunder madhusala ki abhivaykti....

sushma 'आहुति' said...

बहुत ही खूबसूरती से मधुशाला को और भी सुंदर बना दिया आपने...

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद सागर जी..!!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद सुषमा 'आहुति' जी..!!

SAJAN.AAWARA said...

bahut hi sundar rachna mam....

pahli baar apke blog par aaya hun, padhkar acha laga . aaj se hi follow kar raha hun apko..
jjai hindjai bharat

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद सजन आवारा जी..!!