Sunday, September 4, 2011

'क्षमा-याचना..!!!'



जैन पर्वाधिराज पर्युषण के शुभ अवसर पर संवत्सरी दिवस पर ८४ लाख जीवों से मन, वचन, काया से जाने-अनजाने में हुई त्रुटि के लिये हाथ जोड़कर क्षमा-याचना करते हैं..!!!

खमत-खामना करते हैं..!!

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Udan Tashtari said...

हमारी भी क्षमायाचना...

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद उड़न तश्तरी जी..!!