Wednesday, September 19, 2012

'दिल..'




...


"मुड़ जाते हैं..
रास्ते सारे..
खुद-ब-खुद..
तेरी ओर..
गर्द हो भारी..
या तूफ़ानी चिंगारी..
लकीरों पे काबीज़..
राज़दां, मैं दिल हारी..!!"

...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

वाह!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद यशवंत माथुर जी..!!