Wednesday, September 26, 2012

'टोकरी रंगों-वाली..'


...


"इन खाली चौकौरों में भर दो अपनी लाली..
विरक्त लगे जब कभी मेरी जीवन-डाली..
निकाल फेंकना मुझपर टोकरी रंगों-वाली..
सहज स्वीकारुंगी स्नेही-विशिष्टता निराली..!!!"

...

1 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Nidhi Tandon said...

ज़रूर ...ऐसा ही करना भी चाहिए.