Wednesday, December 12, 2012

'अशआर..'




...

"हीरा..पन्ना..माणक..
अज़ीज़ बेशुमार..

ना भूला सका..
ना सुलगे अशआर..!!!"

...

1 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

अरुन शर्मा "अनंत" said...

वाह उम्दा लाजवाब सुन्दर रचना
RECENT POST चाह है उसकी मुझे पागल बनाये