Sunday, March 3, 2013

'बेशुमार अब्र..'



...

"दर्द अपना ना जाने क्यूँ दफ़ना दिया सरे-राह..सोचती थी बहुत हैं जो समझते होंगे हाल-ए-दिल..पर, हर दफा आपका सोचा सच हो..ऐसा नहीं होता..!!! फ़लसफ़ा-ए-ज़िन्दगी अजब रंगीली है..तलाशो जहाँ निशां, वहाँ रेत बहती नहीं हर अश्क के साथ..संग पे पैबंद बेशुमार अब्र, इक फटे तो दूसरा निभाये बेरुखी अपनी..!!"

...

---कुछ दर्द अपने होते हैं..सिर्फ अपने..

1 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

दिनेश पारीक said...

बहुत खूब सुन्दर लाजबाब अभिव्यक्ति।।।।।।

मेरी नई रचना
आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
पृथिवी (कौन सुनेगा मेरा दर्द ) ?

ये कैसी मोहब्बत है