Tuesday, June 18, 2013

'ह्रदय-उपवन..'




...

"देखो..धुला-धुला आकाश सारा..
जाने ह्रदय-उपवन किसने सँवारा..
खिले जब-तब अंतर्मन दर्पण..
सृष्टि करे विवेचन तुम्हारा..!!"

...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

दिगम्बर नासवा said...

श्रृष्टि जानती है प्रेम के असर ..

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद दिगम्बर नासवा जी..!!