Wednesday, December 11, 2013

'बेदख़ल होतीं राहें..'




...


"खुशियाँ भी झूठी हैं..गम तो अपने रहने दो..!! सुनो, चाहे जितना दम लगा लेना..मुझसे न ले सकोगे अपनी रूह का हिस्सा..जो सिर्फ मेरा है..और ता-उम्र रहेगा..!!"

...

--बेदख़ल होतीं राहें..

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Digamber Naswa said...

रूह का संबंध रूह से है ... उसे लेना संभव कहां ...

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद दिगम्बर नासवा जी..!!