Monday, December 2, 2013

'अनुभूति का वरदान..'


...

"गोलार्ध से बहता अथाह समंदर मेरे महासागर को नयी दिशा दे रहा है.. आओ, थाम लो मेरा समर्पित जीवन और संचालित होने दो जीवन-प्रणाली..!!! जानती हूँ..कि तुम ही जानते हो मेरी व्यथा..!!"

...

--अनुभूति का वरदान..रख लो मान..

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

sushma 'आहुति' said...

खुबसूरत अभिवयक्ति....

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद सुषमा 'आहुति' जी..!!!