Thursday, January 30, 2014

'तैरता तेरा नाम..'





...


"तेरा नाम भी अज़ब मादकता का बोध कराता है.. मोबाईल की टच स्क्रीन पर तैरता तेरा नाम..जैसे छुआ है तुझे अभी-अभी..!!"

...

--जाने वस्ल-ए-रात कब आएगी..

4 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

मिश्रा राहुल said...

काफी उम्दा रचना....बधाई...
नयी रचना
"सफर"
आभार

Nayank Patel said...

मोबाइल के टच स्क्रीन पर तैरता रहा नाम (उनका) ,
जैसे उम्मीद का चिराग जला है अभी अभी .
तेरे दिल मै एक फूल खिला है अभी अभी
जैसे दिल का हसीं राज़ खुला है अभी अभी
यूँ कोई तेरे साथ चला है अभी अभी ...........
जब आया नाम तैरता दिल में उतर के
आँखों में तेरे प्यार पाया है अभी अभी
कि बहुत दिनों मै सुकून पाया है अभी अभी ………………।


मुझको तेरा पयाम मिला है अभी अभी .................

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद राहुल मिश्रा जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद नयंक साब..!!