Friday, January 31, 2014

'महसूस किया बरसों बाद..'








...


"सुनो..बहुत ठण्ड है..नफरत का कोहरा कब से बाँहें पसारे खड़ा है.. वीरान जाड़ा ख़ुमारी लुटा रहा है..!!! बरसाये लाख क़हर..तुम न डरना उस क़ातिलाना हवा से..

मेरी चाहत का कम्बल..मेरी रूह का अलाव..मेरी साँसों की खलिश..मेरे जिस्म की हरारत..बेपनाह मोहब्बत..और हम.. देखना जड़ देंगे एक वार्म कोज़ी सिलवटों का आशियाना..!!!"

...

--महसूस किया बरसों बाद.. शब अपनी होने को है..

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

parul chandra said...

you write so well... beautiful thoughts !!

Priyankaabhilaashi said...

सादर आभार पारुल चंद्रा जी.. :-)