Friday, February 28, 2014

'अनकहे राज़..'






...

"जो तुम नहीं पास मेरे..
चिपक रहा दरिया-ए-एहसास..

हर्फ़ ग़मज़दा..गुल बेवफ़ा..
काश समझता अनकहे राज़..!!"

...


4 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Aditi Poonam said...

काश ......बहुत खूब.....

Priyanka Jain said...

धन्यवाद अदिति पूनम जी..

संजय भास्‍कर said...

सच कुछ ऐसा ही है

Priyanka Jain said...

धन्यवाद संजय भास्कर जी..!!