Sunday, April 27, 2014

'मीत मेरे..'





...

"इक मेरे मन का राग.. इक तेरे मन का साज़..
मधुर संगीत के लिए आवश्यक है, प्रिये..!!"

...

--मीत मेरे.. रीत हो तुम.. <3

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

संजय भास्‍कर said...

अच्छी भावाभिव्यक्ति .

Priyanka Jain said...

धन्यवाद संजय भास्कर जी..!!