Sunday, May 25, 2014

'प्यार का साज़..'





...



"न जाने खुद की कितनी परतें उसके नाम लिखीं.. कितने विश्वास से समर्पित किया स्वयं को..!!

उसके फ़क़त..हर मोड़ मुझे छलनी किया..उकेड़ा मेरे लहू का क़तरा-क़तरा सरे-राह.. नीलाम किया वज़ूद मेरा..मज़ाक बनाया हर मजलिस..!!

मोहब्बत के रंग थे..या..प्यार का साज़..?? बे-रंग..बे-ताल..बे-बस.. नियति है मेरी..!!"


...


--सफ़र लम्बा हो तो क्या..दर्द भी गहरे हो सकते हैं न..हर उस पल के..

5 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

yashoda agrawal said...

आपकी लिखी रचना मंगलवार 27 मई 2014 को लिंक की जाएगी...............
http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

parul chandra said...

Lovely lines...

Priyanka Jain said...

धन्यवाद यशोदा अग्रवाल जी..!!

Priyanka Jain said...

धन्यवाद पारुल जी..!!

sushma 'आहुति' said...

बेहतरीन अभिवयक्ति.....