Sunday, May 4, 2014

'खनकती कनक..'





...

"आज विश्व हास्य दिवस है.. तुम्हारी हँसी से खनकती कनक..और लज्जाता चंद्र..!! याद है न..अलाव की गर्मी का सिलवटों में सरेंडर करना और मेरे रोम-रोम का खिल जाना..!!"

...


--संडे को तुम बहुत याद आते हो..<3

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Prasanna Badan Chaturvedi said...

उम्दा...बहुत बहुत बधाई...
नयी पोस्ट@मतदानकीजिए
नयी पोस्ट@सुनो न संगेमरमर

Priyanka Jain said...

धन्यवाद प्रसन्ना बडन चतुर्वेदी जी..!!