Monday, July 28, 2014

'दीदार-ए-य़ार..'





...

"सितारों की रंगत..तुझसे..
हुस्न की सलामती..तुझसे..
रूह की साँसें..तुझसे..
यादों की पुरवाई..तुझसे..

धुआँ उठने की दुआ माँगो..
यारों..

दीदार-ए-य़ार..
कहाँ सबका नसीब..!!"

...

12 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

yashoda agrawal said...

आपकी लिखी रचना बुधवार 30 जुलाई 2014 को लिंक की जाएगी...............
http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

संजय भास्‍कर said...

bahut sundar rachana hai...

Priyanka Jain said...

धन्यवाद यशोदा अग्रवाल जी..

सादर आभार..!!

Priyanka Jain said...

धन्यवाद संजय भास्कर जी..!!

प्रतिभा सक्सेना said...

अद्भुत !

Smita Singh said...

बहुत बढ़िया।

Anusha Mishra said...

बहुत बढ़िया

Pratibha Verma said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

Priyanka Jain said...

धन्यवाद प्रतिभा सक्सेना जी..!!

Priyanka Jain said...

धन्यवाद स्मिता सिंह जी..!!

Priyanka Jain said...

धन्यवाद अनुषा मिश्रा जी..!!

Priyanka Jain said...

धन्यवाद प्रतिभा वर्मा जी..!!