Monday, September 27, 2010

'खलिश..'



...

"महबूब बाहों में उलझते नहीं..
अश्क आँखों में रुकते नहीं..

अजीब खलिश है..दिल अब धड़कते नहीं..!!"

...

6 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

संजय भास्‍कर said...

गजब कि पंक्तियाँ हैं ...

माधव( Madhav) said...

nice

Anonymous said...

bahut hi sundar panktiyaan....
abhi abhi face book se padh kar aaya hoon , socha comment kar doon...

Unknown said...

धन्यवाद संजय भास्कर जी..!!

Unknown said...

धन्यवाद माधव जी..!!

Unknown said...

धन्यवाद शेखर सुमन जी..!!