Saturday, May 28, 2011

'निगाहों से बुन..'




...


"जिस्मों की गुज़ारिश ना सुन..
खुद से बेखुदी ना चुन..
बेवफा हैं..वक़्त की आंधियां..
दिल में छुपा..निगाहों से बुन..!!!"


...

6 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

sushma 'आहुति' said...

bhut hi khubsurat... dil me chupa, nigaho se bun... very nice...

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

वाह!

शिखा कौशिक said...

too good .

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद सुषमा 'आहुति' जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद यशवंत माथुर जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद शिखा कौशिक जी..!!