Friday, April 29, 2011

'मेरी किस्मत..'



...


"छुपा सका ना..
राज़-ए-दिल..
महबूब से..
जो किया बयां..
अधूरा रहा..
हर अरमान..
आह..
मेरी किस्मत..!!"


...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

सुशील बाकलीवाल said...

आह... ये कैसी किस्मत ?

टोपी पहनाने की कला...

गर भला किसी का कर ना सको तो...

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद सुशील बाकलीवाल जी..!!!