Saturday, August 24, 2013

'असंख्य पत्ते..'





...


"कैसे टूटे हैं शाख पे बैठे असंख्य पत्ते..चिपके हैं तने से फिर भी उधड़े हैं..!!!"

...

--हक़ीक़त-ए-ज़िन्दगी..बेयर ट्रुथ..


2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

sushma 'आहुति' said...

behtreen....

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद सुषमा 'आहुति' जी..!!