Friday, February 25, 2011

'आशियाना-ए-ख्वाब..'



...


"बुनता हूँ..
आशियाना-ए-ख्वाब..

गेसुओं से झाँकतीं..
सुर्ख निगाहें..
करती हैं..
बरबस सवाल..

थाम लेते गर..
मुसलाधार बारिश..
कंपकंपाती रात..
लबरेज़ अरमान..
कहते अपनी जुबां..

तन्हा हूँ..
महफ़िल है बेज़ार..

समा जाओ..
चिराग-सा रोशन..
मेरे गुल-ए-गुलज़ार..!!"

...

10 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Er. सत्यम शिवम said...

आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (26.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद सत्यम शिवम जी..!!

यशवन्त माथुर said...

वाह!बहुत ही बढ़िया लिखा आपने.

---------
सूरज से मैंने कहा....

Dr Varsha Singh said...

मनोभावों को खूबसूरती से पिरोया है। बधाई।

Patali-The-Village said...

बहुत ही बढ़िया लिखा आपने| धन्यवाद|

VIJUY RONJAN said...

Accha likhte hain.samayabhav ke karan pahle aapke site pe nahi aa saka.Afsaos hai.Kuchh likhne ki koshish main bhi karta...angadhi kavitayen padhne ka shauk ho to mere site pe vi kabhi vicharan karein.

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद यशवंत माथुर जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद डॉक्टर साहिबा जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद Patali - The Village जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद विजुय रोंजन जी..!!