Wednesday, June 15, 2011

'टुकड़े रूह के..'




...


"कीमत चुका..
बांटा साज़-ओ-सामान..
ना कर सका..
टुकड़े रूह के..!!!"


...

8 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Er. सत्यम शिवम said...

क्या बात कही है...लाजवाब।

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद सत्यम शिवम जी..!!

M VERMA said...

रूहों के टुकड़े नहीं हो सकते

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद वर्मा जी..!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत खूब ...

Kailash C Sharma said...

बहुत खूब!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद संगीता आंटी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद कैलाश शर्मा जी..!!