Sunday, October 28, 2012

'ह्रदय-व्यापार..'





...


"देखो, थम गयी सृष्टि..
रुक गया ह्रदय-व्यापार..
अद्भुत अतुल्य सौन्दर्य तुम्हारा..
करता विभोर तार-तार..!!"

...

4 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Rajesh Kumari said...


आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार ३० /१०/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका स्वागत है |

मन्टू कुमार said...

Bahut khub...

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद राजेश कुमारी जी..!!

Priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद मन्टू कुमार जी..!!