Monday, September 9, 2013

'क्षमा-याचना..'

...

"पर्वाधिराज पर्युषण जी के आगमन पर मन सदैव उल्लासित रहता है..अनंत-काल से एकत्रित अष्ट-कर्मों को क्षय करने का सु-अवसर मिलता है..!!! और समापन पर एक विशेष उपहार--'संवात्सरिक प्रतिकमण' करके समस्त प्राणी-मात्र से क्षमा माँगने का दुर्लभ संयोग, जो अन्य दिवसों में संभव नहीं..

चौरासी लाख जीव-योनियों से हाथ जोड़कर मन-वचन-काया द्वारा हुई अनगिनत त्रुटियों के लिए क्षमा-याचना करते हैं..खमत-खामना..!!!"

...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Aditi Poonam said...

मंगल शुभ कामनाएं .....पर्यूषण पर्व की....
साभार.....

Priyankaabhilaashi said...

आपको भी ढेरों शुभकामनायें अदिति पूनम जी..