Wednesday, April 3, 2013

'जिद्दी यादें..'



...

"बंद करूँ खिड़कियाँ कितनी..
खींच डालूँ दरवाजे बेशुमार..

जिद्दी यादें..जातीं ही नहीं..!!"


...

6 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

gopal said...

ye bilkul sahi yaden hee hai to hai jo insan ko dard datee hai

दिगंबर नासवा said...

सच कहा है ... ये चिपक् जाती हैं जिस्म के साथ ...

Yashwant Mathur said...

लाजवाब

Unknown said...

धन्यवाद गोपाल जी..

Unknown said...

धन्यवाद दिगम्बर नासवा जी..!!!

Unknown said...

धन्यवाद यशवंत माथुर जी..!!!