Wednesday, September 26, 2012

'कुकर की सीटी..'





कृपया बात करते समय अपने kitchen में जाकर पहले बर्नर को ऑफ कर दें..आप सुन रहे हैं ना..???

...

"उफ़..
कितनी बेवफ़ा..
ये कुकर की सीटी..

कितने गिरते-संभलते..
जी-भर कोशिश करते..
लफ्ज़..
आते हैं ज़ुबां..
जब कभी..

धमम...म..म..
बज जाती है..
सीटी-ए-हिज्र .!!

...

10 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

रश्मि प्रभा... said...

http://vyakhyaa.blogspot.in/2012/09/7.html

Madhuresh said...

Mast hai!
Accha blog.. pehli baar ana hua..
shubhkaamanyen!!

Unknown said...

सीटी ए हिज्र से बचना हो तो देगची में खाना पकाओ ...

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

:):) खयाल उसी समय क्यों आते हैं :):)

Unknown said...

धन्यवाद रश्मि प्रभा जी..!!

आभारी हूँ..!!

Unknown said...

धन्यवाद मधुरेष जी..!!

Unknown said...

धन्यवाद दी..!!

Unknown said...

धन्यवाद संगीता आंटी..!!

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...

.


सीटी ए हिज्र !
क्या बात है !

नया बिंब देने के लिए आभार
:)

Unknown said...

धन्यवाद राजेन्द्र स्वर्णकार जी..!!