Monday, September 3, 2012

'दरमियां..'




...

"रेज़ा-रेज़ा बहता दर्द..
नफ्ज़-नफ्ज़ दहकता अश्क..

काश..फ़ासला गहराता नहीं..
वफ़ा, रज़ा, ख़ता, सज़ा दरमियां..!!"

...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Unknown said...

क्या किया जाए...किस्मत के आगे ...जोर नहीं चलता

priyankaabhilaashi said...

धन्यवाद दी..!!