Saturday, November 24, 2012

'ह्रदय-कोशिका..'





...


"ह्रदय-कोशिका नसों से जीवन संचारित करती रहीं, लक्ष्य को भेदती रहीं, उपजाऊ धरती पर खिलखिलाती रहीं..
आत्म-शोध अपूर्ण रहा..

..........कुछ किस्से गंतव्य तक नहीं पहुँचते..!!"


...

1 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

दिगंबर नासवा said...

सतत रयास जरूरी है अंत तक लाने के लिए ...