Wednesday, May 2, 2012

'साहिल..'

...


"शर्मिंदा होतीं हूँ हर सुबह..
रात भर साथ ना दे पाने को..
क्या काबिल है मेरा काफिला..
साहिल पे डूब जाने को..!!!"

...

2 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आज चार दिनों बाद नेट पर आना हुआ है। अतः केवल उपस्थिति ही दर्ज करा रहा हूँ!

नीलांश said...

v good