Friday, December 2, 2011

'जुस्तजू..'




...


"आ..
मेरे शौक से जुस्तजू करले..

जो ना है मेरा..
भर दूंगा दामन में तेरे..

इक बार..
फ़क़त..
इक बार..
मुझे रूह में भर ले.!!!".


...

10 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Prakash Jain said...

Bas ek bar

Ruh mein bhar le.....

Gazab...
Bahut sundar

www.poeticprakash.com

Unknown said...

रूह में ...सिमट आना ...समा जाना ........जीवन के सबसे खूबसूरत एहसासों में से एक .

sushma verma said...

बहुत खूब.....

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

बहुत सुन्दर वाह!

Rajesh Kumari said...

fakat ek bar mujhe rooh me bhar le...khoobsurat ehsaas.

Unknown said...

धन्यवाद प्रकाश जैन जी..!!

Unknown said...

धन्यवाद दी..!!

Unknown said...

धन्यवाद सुषमा 'आहुति' जी..!!!

Unknown said...

धन्यवाद चन्द्र भूषण मिश्र 'गाफिल' जी..!!

Unknown said...

धन्यवाद राजेश कुमारी जी..!!