Friday, December 2, 2011

'रूह मेरी..'




दी..आपके लिए..


...


"कुछ ना कहूँगी..
फिर भी..
समझ जायेंगे..
आप..
हैं ना..

हर आहट..
पहचान जाते हैं..

हर धड़कन..
सुन लेते हैं..

हर आँसू..
देख लेते हैं..

आप से ही रौशन..
रूह मेरी..

आपसे ही शादाब..
जिंदगानी मेरी..

यूँ ही रहिएगा..
मुझमें शामिल..!!!"


...

13 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

Prakash Jain said...

yun hi reahiyega
mujhme shamil...

wah! adbhut....

Bahut hi sundar bhav...

www.poeticprakash.com

महेन्द्र श्रीवास्तव said...

वाह, बहुत सुंदर
शुभकामनाएं

Unknown said...

बेशक ........

vandan gupta said...

सुन्दर ख्याल्।

Kailash Sharma said...

बहत सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति...

Anamikaghatak said...

adbhut shabdo ka prayog...damdar lekhni

Unknown said...

धन्यवाद प्रकाश जैन जी..!!!

Unknown said...

धन्यवाद महेंद्र श्रीवास्तव जी..!!

Unknown said...

धन्यवाद दी..!!

Unknown said...

धन्यवाद वंदना जी..!!

Unknown said...

धन्यवाद कैलाश शर्मा जी..!!

Unknown said...

धन्यवाद एना जी..!!

Nirantar said...

pahle baar aapkaa blog dekhaa achhaa lagaa
badhaayee