Thursday, January 28, 2010

'दिल लगा रखा है..'


...

"फ़क़त..

इक राज़..
सँभाले रखा है..
इक साज़..
सज़ा रखा है..
इक तार..
सँवार रखा है..
इक गुल..
छुपा रखा है..

हाँ..
सच है..

तुमसे..
दिल लगा रखा है..!"

...

6 ...Kindly express ur views here/विचार प्रकट करिए..:

अजय कुमार said...

प्रेम का खूबसूरत इजहार

Unknown said...

धन्यवाद अजय कुमार जी..!!

Arshad Ali said...

kam shabdon me apnapan dikhlana ho to
to aapke likhe lines se behtar kuchh nahi hoga..
Umda kaam

Unknown said...

बहुत-बहुत धन्यवाद अरशद अली साब..!!

Unknown said...

good way...:))

Unknown said...

धन्यवाद आशुतोष जी..!!